अवैध देशी पिस्टल रखने वाले आरोपी को 02 वर्ष का सश्रम कारावास।

0
168
मनासा। श्री धर्म कुमार, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, मनासा द्वारा एक आरोपी को अवैध रूप से देशी पिस्टल एक राउण्ड जिन्दा कारतूस सहित अपने कब्जे में रखने के आरोप का दोषी पाकर 2 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 200रू. जुर्माने से दण्डित किया।
श्री योगेश कुमार तिवारी, एडीपीओ द्वारा घटना की जानकारी देते हुए बताया कि घटना लगभग 10 वर्ष पूर्व दिनांक 08.02.2009 को रात के 1ः30 बजे आरोपी के ग्राम रावलीकुडी स्थित उसके घर के बाड़े की हैं। थाना रामपुरा के एएसआई बी. एल. हाड़ा को टेलीफोन पर मुखबीर सूचना मिली की चर्तुभजु गुर्जर नाम का व्यक्ति उसके घर के बाड़े पर अवैध रूप से एक देशी पिस्टल अपने कब्जे में रखे हुए घूम रहा हैं। मुखबीर सूचना विश्वसनीय होने से पुलिस रामपुरा मय पंचान व फोर्स सहित आरोपी के घर के बाड़े पर पहुॅची, जहॉ पर आरोपी खड़ा हुआ था, जिसकी पुलिस द्वारा तलाशी लिये जाने पर उसकी पेंट के बॉये तरफ एक देशी पिस्टल मय एक राउण्ड के मिली, जिसके लाईसेंस के बारे में पूछा तो उसके पास लाईसेंस नही होने से उसके कब्जे से पिस्टल को जप्त कर व उसको गिरफ्तार कर उसके विरूद्ध थाना रामपुरा में अपराध क्रमांक 26/2009, धारा 25(1-बी)(ए) आर्म्स एक्ट के अंतर्गत पंजीबद्ध कर, शेष विवेचना उपरांत चालान मनासा न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।
अभियोजन की ओर से योगेश कुमार तिवारी, ए.डी.पी.ओ. द्वारा न्यायालय में जप्तीकर्ता अधिकारी, पंचसाक्षी व पुलिस फोर्स के सदस्यो सहित सभी आवश्यक गवाहों के बयान कराकर अपराध को प्रमाणित कराकर, दण्ड के प्रश्न पर तर्क दिया कि आरोपी अवैध रूप से देशी पिस्टल मय जिन्दा राउण्ड अपने कब्जे में रखे हुए था, जो कि गंभीर अपराध हैं, इसलिए उसे कठोर दण्ड से दण्डित किया जावे। श्री धर्म कुमार, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, मनासा द्वारा आरोपी चर्तुभुज पिता गोकुल गुर्जर, उम्र 60 वर्ष, निवासी-ग्राम रावलीकुड़ी, तहसील रामपुरा जिला नीमच को धारा 25(1-बी)(ए) आर्म्स एक्ट (अवैध हथियार रखना) में 2 वर्ष के सश्रम कारावास व 200 रूपये जुर्माने से दण्डित किया। न्यायालय में शासन की और से पैरवी श्री योगेश कुमार तिवारी, एडीपीओ द्वारा की गई।
नोट – कृपया पैरवीकर्ता अधिकारी का नाम अवश्य प्रकाशित करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here