अवैध नलकुप उत्खनन करने वाले दो आरोपीयों पर न्यायालय ने लगाया जुर्माना।

0
462

नीमच। सुश्री शीतल बघेल, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, नीमच द्वारा दो आरोपीयों को अवैध नलकुप उत्खनन किये जाने का दोषी पाकर दोनो आरोपीयों को जुर्माने के दण्ड से दण्डित किया । जिला लोक अभियोजन अधिकारी श्री आर. आर. चौधरी द्वारा घटना की जानकारी देते हुए बताया कि दिनांक 26.11.2014 को अनुविभागीय अधिकारी, नीमच ने जीरन के तहसीलदार को फोन पर निर्देशित किया कि ग्राम-कुचडौद में अवैध नलकुप उत्खनन किये जाने की सूचना मिली हैं, तत्काल कार्यवाही करों। अनुविभागीय अधिकारी के निर्देश पर तहसीलदार, हल्के के पटवारी सहित ग्राम-कुचडौद स्थित छाछखेडी रोड पर पॅहुचे, जहॉ पर उन्होने देखा कि आरोपीगण मशीन व सपोर्ट ट्रक से बिना अनुमति अवैध नलकुप उत्खनन कर रहें थे। तहसीलदार द्वारा मशीन व ट्रक आदि को जप्त कर आरोपीगण के विरूद्ध पुलिस थाना जीरन में अपराध क्रमांक 302/2014, धारा 188 भादवि एवं धारा 9 म.प्र. पेयजल परिरक्षण अधिनियम, 1986 के अंतर्गत पंजीबद्ध करवाया गया। पुलिस जीरन द्वारा विवेचना उपरांत चालान न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। न्यायालय में दोनो आरोपीगण द्वारा अपराध करना स्वीकार किया गया। अभियोजन पक्ष की ओर से चन्द्रकांत नाफडे द्वारा तर्क किया गया कि आरोपीगण जिस स्थान पर अवैध भूजल का उत्खनन कर रहे थे वह भूजल की दृष्टि से अतिदोहित क्षैत्र घोषित किया हुआ हैं तथा वहा पर नलकुप उत्खनन की अनुमति नहीं हैं, फिर भी आरोपीगण द्वारा अवैध नलकुप उत्खनन किया गया। सुश्री शीतल बघेल, न्यायिक दण्डिधिकारी प्रथम श्रेणी, नीमच द्वारा आरोपीगण (1) अनील पिता श्रीधर गोडर, तथा (2) गणेश कुमार पिता सन्तानाकृष्ण नायडु, दोनो वर्तमान निवासी-ग्राम बरखेडादेव डुंगरी को धारा 9 म.प्र. पेयजल परिरक्षण अधिनियम, 1986 में 1000-1000रू जुर्माने तथा धारा 188 भादवि में 200-200रू जुर्माने से, इस प्रकार दोनो आरोपीयों को कुल 1200-1200 रूपये के जुर्माने से दण्डित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here