आज फिर जावद बंद क्यों राजनीति दलों को समझना होगा।

0
717

जावद आज एक बार फिर बाजार में सन्नाटा पसरा हुआ है और बाजार हमेशा की तरह बंद दिखाई दे रहे हैं ऐसा क्यों यह सब राजनीतिक दलों को सोचना होगा की जब भी एक समुदाय क्या त्योहार रहता है तो एक विशेष वर्ग द्वारा बाजार बंद कर दिया जाता है आज सुबह जब लोग अपने घरों से उठ कर बाहर निकले तो देखा पूरे बाजार और प्रतिष्ठान बंद दिखाई दिए लोग चाय पानी नाश्ते के लिए तरस गए जानकारों की मानें तो पूर्व में हनुमान जयंती पर पूरे तनाव के कारण आज भी एक विशेष वर्ग अपना व्यवसाय बंद रख विरोध प्रकट करता है राजनीतिक दलों को दोनों समुदाय के लोगों को बिठाकर भाईचारे को लेकर सांप्रदायिक सद्भावना बनाए रखने की पहल करना चाहिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here