कांग्रेस की लिस्ट क्या हुई वायरल, दावेदारों का उबला गुस्सा, हरेले, थके हारो को क्यो दे रही पार्टी मौका, जबकि वंशवाद और धनबल भी क्या रहेगा हावी।

0
678

बुधवार देर शाम को सोशल मीडिया पर कांग्रेस की नाकामी, और विपक्ष को लाभ पहुचाने वाली करतूत हो गयी। दरअसल दिल्ली में सौपी गयी प्रत्याशियों की सूची सोशल मीडिया पर चल पड़ी। फिलहाल यह लिस्ट पुस्त नही है। लेकिन जिस किसी भी दावेदार ने यह सूची देखी उसका गुस्सा उबल गया। क्योकि जो 230 सीटो के लिए नाम इसमे थे वह वही थके हारे, धनबली, हारे हुए थे। कुछ एक नाम जरूर नए थे, वह इसलिए क्योकि उनके बाप दादा कांग्रेस में पकड़ जो रखते है। लेकिन जो नाम फिलहाल इस सूची में है, उनका पहले का प्रदर्शन कोई खास नही रहा। क्योकि यह सभी पहले भी हार का स्वाद चख चुके है। यही नही खुद जमीनी कांग्रेस कार्यकर्ता इन चेहरों से ऊब गए है। जिस तरह सिंधिया, कमलनाथ और दिग्विजय ने दावे किए थे वह इस सूची को देख सभी खोखले और झूठे नजर आ रहे है। क्योकि इस लिस्ट में पठ्ठावाद, गुटबाजी, तेरा मेरा, धनबल, तो नजर आ ही रह है और जमीनी कार्यकर्ता को ध्यान में नही रखने की बात भी सामने आ रही है। क्योकि इस पूरी सूची में वह ऐसे नाम गायब है जिन्हें खुद कार्यकर्ता उनकी विधानसभा छेत्रो में देखना चाहते है। जबकि कई सीटों पर तो पैराशूट उम्मीदवार के मायने समझे जा सकते है। फिर कैसे कांग्रेस विपक्ष को पटखनी देने की सोच सकती है। क्योकि जो नाम है वह काम के नही। खेर इंदौर सहित लगभग पूरे मप्र में इस वायरल लिस्ट को लेकर नाराजगी देखी जा रही है। क्योकि उनके ही बड़े नेता जो महीनों से गुटबाजी, तेरा मेरा से कार्यकर्ताओ को दूर रखने की सिख दे रहे थे। यह सूची उन्ही आकाओं को यह पाठ भुलाई देना वाला साबित कर रही है। अगर सच मे कांग्रेस की यह सूची सत्य पाई गई तो यकीन मानिए फिर विपक्ष को ज्यादा मेहनत करने की जरूरत ही नही। क्योकि अब इस सूची के वायरल होने के बाद खुद काँग्रेसी ही आपस मे लड़ पड़ेंगे।

फिर भी कुछ भी हो लेकिन हरल्लो को मौका देना कोई समझदारी नही। या कहे बकरा बांधकर शिकार करना सही नही होगा। क्योकि हमेशा इन पैराशूट वाले बकरों को शेर खा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here