खूब छला, अब जवाब दो-हिसाब दो जनता से आशीर्वाद नहीं माफी मांगे मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान-श्रीमती बंसल

0
391

नीमच(निप्र)। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान और भाजपा सरकार ने पिछले १४ वर्षोें में थोथी घोषणाएं कर खूब छला है। अब वक्त आ गया है कि भाजपा सरकार जवाब दें और जनता को हिसाब दें। मुख्यमंत्री का जन आशीर्वाद की बजाए जनता से माफी मांगना चाहिए।
जिला कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष एवं जिला पंचायत सदस्य श्रीमती मधु बंसल ने जनता की ओर से मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से जिले में आगमन पर किए गए वादे निभाने और कामों का हिसाब मांगा है।
श्रीमती बंसल ने कहा कि सरकार के दबाव में जैन आयोग की रिपोर्ट भी किसानों के खिलाफ आई है। मुख्यमंत्री ने वादा किया था इसके बावजूद मंदसौर गोलीकांड के शिकार किसानों के साथ न्याय नहीं हो पाया है। प्रदेश में महिला उत्पीड़न बढ़ा है। महिलाएं खुद को असुरक्षित महसूस कर रही है। शिक्षित बेरोजगारों को रोजगार दिलाने के लिए कोई प्रयास नहीं किए गए है। शिक्षा-चिकित्सा के क्षेत्र में जनता को सुविधाएं नहीं मिल पा रही है।
बच्चों से छीना प्राथमिक शिक्षा का अधिकार
श्रीमती बंसल ने कहा कि जिले में ४५ शासकीय प्राथमिक शालाओं का संविलियन कर लिया गया। इससे उन क्षेत्रों के बच्चों से प्राथमिक शिक्षा का अधिकार सरकार ने छीन लिया है।
हर बार ठगी गई शहरी जनता
श्रीमती बंसल ने कहा कि जब-जब चुनाव आए, भाजपा सरकार के थोथे वादों के कारण नीमच की जनता छली गई है। शहर की सड़कों की हालत खराब है। गड्ढों और धूल के गुबार के कारण जनता नाक सिकोड़ने पर विवश है। बंगला-बगीचा समस्या के मामले में भी लोगों को छला गया है।
स्वास्थ्य वेंâद्रों की हालत खराब
जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओें की बेहद कमी है। वहीं जावद विधानसभा क्षेत्र के सात निकाय क्षेत्रों में भी प्राथमिक स्वास्थ्य वेंâद्रों तक का व्यवस्थित संचालन नहीं है। सामान्य बुखार तक के लिए लोगों को जिला मुख्यालय अथवा राजस्थान में ईलाज के लिए भटकना पड़ रहा है।
किसानों के साथ भी धोखा
श्रीमती बंसल ने कहा कि भाजपा सरकार ने किसानों के साथ भी धोखा किया है। नोटबंदी के साथ ही कृषि आदानों के भाव भी बेहद कम हो गए। किसानों को लागत मूल्य भी नहीं मिल पा रहा है। किसान भावांतर के भंवर में पंâसा है। फसल बीमा योजना का कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है। जावद की मंडी बंदप्रायः हो चुकी है। सिंचाई का रकबा बढ़ाने के भाजपा सरकार के दावे खोखले हैं। सच्चाई यह है कि पिछले १४ सालों से कुकड़ेश्वर के पास कालिया खो सिंचाई परियोजना के नाम पर किसानों को बरगलाया जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री रहते बाबुलाल गौर इसका भूमि पूजन कर गए थे, फिर खुद मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने दो बार शिलान्यास किया, लेकिन योजना अभी तक धरातल पर नहीं उतर पाई है। उन्होने कहा कि इसी तरह मनासा की गांगा बावड़ी सिंचाई परियोजना, राती तलाई-अल्हेड़ परियोजना, चम्बलेश्वर का पानी पठारवासियों को देने के मामलें में केवल झूठी घोषणाएं हुई है।
उद्योगपतियों का कर्ज माफ तो किसानों का क्यों नहीं?
श्रीमती बंसल ने कहा कि वेंâद्र की मोदी सरकार ने हालही में उद्योगपतियों का २.७२ हजार करोड़ रुपये कर्ज माफ किया है। सरकार अगर उद्योगपतियों का कर्ज माफ कर सकती है तो कर्ज के कारण आत्महत्या कर रहे किसानों का कर्ज माफ क्यों नहीं कर सकती?
पीड़ित किसानों को मिले न्याय
श्रीमती बंसल ने कहा कि किसान आंदोलन के दौरान भरभड़िया और मालखेड़ा पंâटे पर प्रदर्शन कर रहे किसानों पर झूठे मुद्दमे लगाए गए, जिन्ह वापस नहीं लिया गया है। मालखेड़ा की बस्तियों के घरों में घूस कर बर्बरता की गई। उन पीड़ितों को भी न्याय नहीं मिला है। जनता के दुःख दूर करने की बजाए यह सरकार जनआशीर्वाद के नाम पर जले पर नमक छिड़कने का काम कर रही है।
युवाओं को भी खूब छला
श्रीमती बंसल ने कहा कि भाजपा सरकार ने युवाओं को भी खूब छला है। पहले व्यापमं घोटाला हुआ, फिर नये शिक्षकों की भतीa ही नहीं हुई। शिक्षक बनने के लिए डिग्रियां युवाओं ने ली, विंâतु भतीa नहीं होने से ओवरएज हो गए। उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जावद क्षेत्र के सोलर प्लांट का उद्घाटन करते हुए यहां के युवाओं को रोजगार देने की बात कही थी, लेकिन स्थानीय युवाओं को कोई रोजगार नहीं दिया गया। विक्रम सीमेंट और एशिया के सबसे बड़े सोलर प्लांट यहां लगाए गए, लेकिन यहां के युवा रोजगार नहीं मिलने से भटक रहे हैं।
व्यापार भी हुआ ठप
श्रीमती बंसल ने कहा कि नोटबंदी के फायदे तो नहीं मिले। व्यापार ठप हो गया है। छोटे व्यापारी बर्बाद हो रहे हैं। मोदी सरकार ने नोटबंदी और जीएसटी के नाम पर व्यापारियों की हालत खराब कर दी है।थोथी घोषणाएं कर छलने वाले मुख्यमंत्री से जनता अब वादे पूरे करने की मांग कर रही है और १४ सालों का हिसाब मांग रही है।
———-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here