खेत के विवाद के कारण अपमानित और मारपीट करने वाली 01 महिला साहित 03 आरोपियों को 15-15 माह का सश्रम कारावास ।

0
406

नीमच। मनासा न्यायालय द्वारा एक महिला साहित तीन आरोपियों को खेत के पुराने विवाद के कारण फरियादी के साथ गाली-गलौच करके अपमानित करने व मारपीट करने के आरोप का दोषी पाते हुए 15-15 माह का सश्रम कारावास एवं 700-700 रू. जुर्माने से दण्डित किया।
जिला लोक अभियोजन अधिकारी श्री आर. आर. चौधरी द्वारा घटना की जानकारी देते हुए बताया कि घटना लगभग 06 वर्ष पुरानी होकर दिनांक 23.09.2012 की सुबह 09ः30 बजे की हैं, जब फरियादी मनोहर, ग्राम-पावटी में खेत की तरफ जा रहा था रास्ते में चारों आरोपीगण जिसमें एक महिला भी हैं, तब चारो आरोपीगण ने खेत के पुराने विवाद को लेकर फरियादी को मॉ-बहन की अश्लील नंगी गालिया देकर अपमानित किया, फरियादी ने गालिया देने से मना किया तो चारो आरोपीगण ने लात-घूसों और लठ्ठ से उसके साथ मारपीट कर हड्डी तोड़ दी, फरियादी ने भागकर वहॉ से अपनी जान बचाई। फरियादी ने घटना की रिपोर्ट पुलिस थाना कुकडेश्वर पर की जिससे अपराध क्रमांक 140/12, धारा 325/34, 504 भादवि का अपराध पंजीबद्ध हुआ। विवेचना उपरांत चालान न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।
अभियोजन पक्ष द्वारा फरियादी मनोहर सहित सभी आवश्यक गवाहों के बयान न्यायालय में कराकर घटना को प्रमाणित कराया गया। अभियोजन की ओर से दण्ड के प्रश्न पर तर्क दिया कि आरोपीगण द्वारा फरियादी को अकेला पाकर उसको गालिया देकर अपमानित कर उसके साथ मारपीट की, जो कि आरोपियों की आपराधिक प्रवृत्ति को दर्शाता हैं, इस कारण आरोपीगण को कठोर दण्ड से दण्डित किया जाये। अभियोजन के तर्का से सहमत होकर श्री धर्म कुमार, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, मनासा द्वारा आरोपीगण (1) ईश्वरलाल पिता भैरूलाल गायरी, उम्र-26 वर्ष, (2) आशोक पिता भैरूलाल गायरी, उम्र-23 वर्ष तथा (3) सीताबाई पति भैरूलाल गायरी, उम्र-47 वर्ष, सभी निवासी-ग्राम पावटी, थाना कुकडेश्वर, जिला नीमच को धारा 325/34 भादवि (एकमत होकर मारपीट करके गंभीर चोट पहुॅचाना) में 01-01 वर्ष के कठोर कारावास एवं 500-500 रू. जुर्माना तथा धारा 504 भादवि (गाली-गलौच कर अपमानित करना) में 03-03 माह के सश्रम कारावास एवं 200-200 रू. जुर्माना, इस प्रकार आरोपीगण को कुल 15-15 माह के सश्रम कारावास व 700-700 रू. के जुर्माने से दण्डित किया। विचारण के दौरान ही एक आरोपी भैरूलाल गायरी की मृत्यु हो गई थी। न्यायालय में शासन की ओर से पैरवी श्री अरविंद सिंह, एडीपीओ द्वारा की गई ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here