गुरूवार को भीषण हादसा होते—होते टल गया।

0
39

नीमच करीब 16 मीटर उंचा हाई मास्क गिर गया बडी बिजली लाईन के तारों में झूल गया। उस वक्त बिजली सप्लाईम चालू था। चारो तरफ चिंगारी उठ गई और आस—पास के लोग सहम गए। यह हाईमास्क अचानक हवा के झोंको से कैसे गिरा। बिजली के तार पर हाई मास्क गिरने के कारण बडा हादसा हो सकता था। कई लोगों की जिंदगी जा सकती थी। इसके पीछे किसकी लापरवाही रही, क्या कारण रहे। इसकी जांच पडताल की तो कई चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। पीएम मोदी और प्रदेश के मुखिया सीएम शिवराजसिंह चौहान को बदनाम करने की साजिश रचने की आशंका भी व्यक्त की जा रही है, क्योंकि हाईमास्क से कई लोगों की जाने जा सकती थी और लाशों पर राजनीति करने की साजिश भी हो सकती है। कुछेक तथाकथित कांग्रेसछाप छपास रोगियों का कारनाम हो सकता है, या फिर स्मैक्ची की करतूत। हाईमास्क में छह नट थी, इसमें से चार नट गायब थी। कई किलो वजनी हाईमास्क सिर्फ दो नटों पर ही टिका हुआ था, जैसे ही गुरूवार सुबह करीब 11 बजे तेज हवा चली तो हाईमास्क धडाम से बिजली के नंगे तारों पर जा गिरा और होटल जिंदल के सामने तार पर अटक गया। अगर तार टूट कर नीचे​ गिर जाते थे नीचे फूल माला वाले बैठे हुए थे और कई लोग भी रोड से गुजर रहे थे। अगर तार नीचे गिर जाते तो निश्चित ही बडा हादसा हो सकता था।

सीसीटीवी कैमरे खोलेंगे राज—
शहर के फव्वारा चौक पर चारो तरफ कैमरे लगे हुए है। किसने नट खोली और ले गए। यह कहानी सीसीटीवी कैमरे खोलेंगे। जिसने भी हाईमास्क के धरातल की नट खोली है, वह निश्चित ही सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ होगा। नीमच कैंट टीआई अजय सारवान ने बताया कि इसकी जांच के लिए टीम गठित की गई है। सीसीटीवी फुटेज भी निकालें जाएंगे। जो भी दोषी व्यक्ति मिलेगा, उसके खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।
——
शहर में लगे है करीब 30 हाई मास्क, नगरपालिका को रख रखाव का ध्यान देना चाहिए—
शहर को दुधिया रोशनी से नहाने के लिए करीब 30 हाई मास्क लगे हुए है। हाई मास्क के रख रखाव की जिम्मेदारी नगरपालिका की है। नट निकाले गए तो नगरपालिका के कर्मचारियों आखिर चैक क्यों नहीं किया। इस तरह से अगर नगरपालिका के कर्मचारी लापरवाह रहे तो ऐसे हादसे हो सकते है।
———

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here