डॉक्टर के स्थाई रूप से सोनोग्राफी सेंटर पर नहीं होने की वजह से लोगों को सोनोग्राफी के लिए हफ्ते भर का इंतजार करना पड़ता है.

0
412

नीमच जिला अस्पताल में डॉक्टरों की कमी मरीजों पर भारी पड़ रही है. नीमच जिले में एक मात्र सोनोग्राफी सेंटर जिला अस्पताल में है. यहां जिलेभर के मरीज सोनोग्राफी के लिए आते है, लेकिन यहां पर केवल एक ही रेडियोलॉजिस्ट की तैनाती की गई है. डॉक्टर के स्थाई रूप से सोनोग्राफी सेंटर पर नहीं होने की वजह से लोगों को सोनोग्राफी के लिए हफ्ते भर का इंतजार करना पड़ता है.मध्यप्रदेश के नीमच जिला अस्पताल का सोनोग्राफी सेंटर कभी कभी ही खुलता है. यहां रेडियोलॉजिस्ट की ड्यूटी इमरजेंसी में लगाई जाती है. फुल टाइम ड्यूटी नहीं लगने की वजह से मरीजों को सोनोग्राफी के लिए एक हफ्ते तक इंतजार करना पड़ता है.नीमच जिला अस्पताल में सोनोग्राफी कराने आए मरीजों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. कई बार मरीजों को महंगी दूकनों पर भी सोनोग्राफी के लिए मजबूर होना पड़ता है. सबसे ज्यादा परेशानी दूर दराज से आने वाले मरीजों को होती है. मामले के बारे में पूछे जाने पर स्वास्थय विभाग के अधिकारियों का कहना है कि जिले में डॉक्टरों की भारी कमी है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here