पैर, कमर और पीठ में लगातार होने वाले दर्द को न करें इग्नोर, हो सकती है साइटिका की प्रॉब्लम

0
164

पंडित वैद्य राज ऑयल के फायदे और ठीक होने के आसान उपाय है पंडित वेद राज आयल अपनाएं और दर्द जोड़ों के दर्द को दूर भगाएं

वैसे तो किसी भी तरह के दर्द को अनदेखा करना सेहत पर भारी पड़ सकता है लेकिन कुछ जगहों के दर्द को बिल्कुल भी इग्नोर न करें जिसमें से एक है पीठ, पैर और कमर दर्द। इन तीनों में से किसी में भी लगातार दर्द बना रहे तो डॉक्टर से संपर्क करें क्योंकि ये साइटिका जैसी गंभीर बीमारी की वजह भी हो सकते हैं। जानेंगे इस समस्या के बारे में…साथ ही उसके लक्षण, बचाव और उपचार के तरीके।

सायटिका

सायटिका पीठ में दर्द की एक ऐसी स्थिति को कहते हैं, जो सियाटिक नर्व के दब जाने से पैदा होती है। यह नर्व पीठ के निचले हिस्से से शुरू हो कर पैरों के अंगूठे तक पहुंचती है। यह नस हमारी मांसपेशियों को ताकत देने का काम करती है। अगर किसी वजह से यह नर्व दब जाती है तो यह आसपास की दूसरी नसों को भी दबाने लगती है। इसी वजह से व्यक्ति को कमर, पीठ, हिप्स और पैरों में लगातार दर्द की समस्या होती है, जिसे सायटिका कहा जाता है। इसके अलावा अगर स्पाइनल कॉर्ड का निचला हिस्सा संकरा हो तो भी ऐसी समस्या हो सकती है। अगर रीढ़ की हड्डियों के जोड़ों के बीच मौजूद कुशन का जेलनुमा पदार्थ सूखने लगे तो हड्डियां एक-दूसरे पर ज्य़ादा दबाव डालने लगती हैं। इस वजह से भी ऐसी समस्या हो सकती है।

कैसे करें पहचान

पैरों,कमर और पीठ में तेज दर्द

कदम उठाते वक्त पैरों या एडिय़ों में दर्द

तेज दर्द के साथ जलन और चुभन का एहसास

कमजोरी महसूस होना

पैरों का सुन्न पड़ जाना

खड़े होने या बैठने पर दर्द का बढ़ जाना

पीठ के निचले हिस्से से शुरू होकर दर्द का पैरों के अंगूठे तक पहुंच जाना

ये सारी हैं वजहें

1. भारी वजन उठाने या किसी वजह से झटका लगने पर रीढ़ की हड्डी का कोई खास हिस्सा अपनी जगह से खिसक जाता है, जिसे स्लिप डिस्क कहा है। यह सायटिका की सबसे बड़ी वजह है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here