प्रधानमंत्री आवास योजना में घोटाला करने वाले दो कर्मचारी गिरफ्तार।

0
156

रतलाम। 13 लाख रूपए के प्रधानमंत्री आवास योजना के घोटाले में गुरूवार को पुलिस ने रतलाम नगर निगम के दो इंजीनियर्स सुहास पंडित और एम.के. जैन को गिरफ्तार किया है। दोनों को ही न्यायालय के आदेश पर जेल भेज दिया गया। 11 अप्रैल को मामले की अगली सुनवाई होगी। दोनों ही इंजीनियर्स पर 13 हितग्राहियो के नाम बदलकर राशि का गबन करने के आरोप है। इस मामले में तीन आरोपी पहले ही गिरफ्तार हो चुके है।
लोक अभियोजक सुभाष जैन के अनुसार गुरुवार को पुलिस ने नगर निगम के इंजीनियर सुहास पंडित और एम.के. जैन को गिरफ्तार कर सीजेएम न्यायालय में पेश किया, जहां से इन्हें 11 अप्रैल तक के लिए न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया है।
एक नजर पूरे घटनाक्रम पर
पीएम आवास योजना में ईश्वर नगर, बिरियाखेड़ी और बंजरग नगर के 1483 हितग्राहियों को लाभान्वित करने की योजना है। इन 1483 हितग्राहियों का मौके पर पात्रता के मान से सेडमेप से सर्वे कराया गया। सत्यापन उपरांत 619, 540 और 320 हितग्राहियों की अलग-अलग तीन सूचियां बनाई गई थी।
पीएम आवास की अनुमोदित सूची में आरोपियों ने बजरंग नगर के 13 नामों में फेरबदल कर पात्र लोगों के स्थान पर 13 अपात्र लोगों के नाम जोड़ दिए गए। इन 13 अपात्र लोगों के खाते में शासन के कुल 13 लाख रुपए भी जमा हो गए थे।
मामला सामने आने के बाद कलेक्टर के निर्देश पर निगम आयुक्त ने प्रकरण की जांच कराई थी। जांच में सामने आया कि एक सूची जिसमें 320 हितग्राहियों के नाम थे, उसमें सरल क्रमांक 102 से 135 वाले दो पन्नों पर बजरंग नगर के 13 नामों में फेरबदल किया गया था। इस सबंध में निगम आयुक्त ने जांच प्रतिवेदन और अन्य दस्तावेज स्टेशन रोड पुलिस को सौंपे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here