बिना पत्रकारों के प्रशासन अधूरा है खबरों के साथ पत्रकारों की समस्याओं को सर्वोच्च प्राथमिकता दें प्रशासन – अवधेश भार्गव

0
191

पत्रकार संविधान का चौथा स्तंभ होता है जो सही गलत को समाज के सामने निष्पक्ष रूप से सामने रखता है लेकिन अपने कार्य के दौरान पत्रकारों को काफी दबाव का सामना करना पड़ता है। पत्रकार कोई भीड़ का हिस्सा नहीं बल्कि प्रशासन का महत्वपूर्ण अंग है । बिना पत्रकारों के, सरकार की कल्पना भी नहीं की जा सकती इसीलिए पत्रकारों द्वारा उठाए गए मुद्दों और खबरों के साथ साथ पत्रकारों की समस्याओं को प्रशासन द्वारा सर्वोच्च प्राथमिकता देना चाहिए । वर्तमान में सरकारों द्वारा जो अधिमान्यता श्रेणियां बांटी जा रही है वह गलत है जमीनी स्तर पर पत्रकारों को अपने कार्य वर्ष अनुभव के अनुसार अधिमान्यता मिलना चाहिए और इसके लिए जिला स्तर पर जनसंपर्क अधिकारी द्वारा अनुशंसा पर अधिमान्यता प्रदान करना चाहिए ।
वर्तमान में ग्रामीण स्तर के पत्रकारों को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है उनकी आर्थिक स्थिति भी सुदृढ़ नहीं दूसरी ओर सरकार है अपने पसंद के मीडिया हाउस को खासतौर पर तवज्जो देकर उन्हें विज्ञापन के रूप में वित्त पोषित करती है । जबकि इस तरह का भेदभाव नहीं होना चाहिए ।
समाचार पत्र वही जो गांव के अंतिम कोने तक पहुंचे और पत्रकार वही जो शहर से लेकर गांव के अंतिम कोने तक की समस्याओं और खबरों को अपने समाचार माध्यम में प्रमुखता से स्थान दें । वर्तमान परिदृश्य में पत्रकारों के संबंध में जो घटनाएं सामने आ रही है वह दुखद है । इसका मुख्य कारण है पत्रकारों के बीच एकता का अभाव आज के परिदृश्य में पत्रकारों के बीच एकता सबसे पहली आवश्यकता बन चुकी है । संगठन से भी पहले पत्रकारों के बीच एकता का भाव होना आवश्यक है । यह कहना था आइसना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अवधेश भार्गव का, जो नीमच में इंदिरा नगर स्थित जय जिनेंद्र रिजॉर्टस में पत्रकारों के राष्ट्रीय स्तर के सशक्त संगठन आईसना के संभागीय स्तरीय विशेष सम्मेलन में पत्रकारों को संबोधित करते हुए बोल रहे थे ।
आइसना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अवधेश भार्गव के मुख्य आथित्य में हुए आयोजन में विशेष रूप से आईएफडब्ल्यूजे के अध्यक्ष एनपी अग्रवाल, आइसना के राष्ट्रीय महासचिव सतीश सिंह सिकरवार और प्रदेश अध्यक्ष नवनीत सिंह जैन के साथ ही नीमच कलेक्टर अजय गंगवार, अनुविभागीय अधिकारी बीएल शाक्य, टोल मैनेजर दिनेश भी चंद्रयान विशेष अतिथि के रूप में मौजूद रहे ।
आयोजन में नीमच, मनासा, जावद नयागांव, डिकेन, सरवानिया महाराज, रतनगढ़, सिंगोली, रामपुरा, कुकड़ेश्वर, जीरन सहित मंदसौर रतलाम उज्जैन भोपाल छतरपुर शिवपुरी दमोह जिले के पत्रकारों ने आयोजन में शिरकत की ।
आयोजन की शुरुआत बुद्धि और लेखन की देवी, मां सरस्वती व भगवान श्री सांवरिया सेठ के चरण कमलों में दीप प्रज्वलन के साथ हुई । पश्चात अतिथियों का सम्मान आईसना टीम ने किया। अतिथियों ने अपना उद्बोधन दिया खासतौर पर जिला कलेक्टर की मौजूदगी में जिला प्रशासन को नीमच जिले में पत्रकारों के साथ हो रही दुविधाओं से अवगत कराया । पश्चात पत्रकारों को पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए जय श्री कृष्णा का दुपट्टा उड़ा कर प्रशंसा पत्र से सम्मानित किया गया । आयोजन के अंतिम में भगवान सांवरिया सेठ की तस्वीर अतिथियों को प्रतीक चिन्ह स्वरूप भेंट की गई पश्चात सभी ने सह भोज का आनंद लिया ।
आयोजन में राष्ट्रीय अध्यक्ष अवधेश भार्गव सहित राष्ट्रीय प्रदेश पदाधिकारियों ने पत्रकारों के हितार्थ योजनाएं, अधिमान्यता, चिकित्सा सुविधाएं, बीमा सुविधाएं व विज्ञापन नियमावली के संदर्भ में अति आवश्यक जानकारियां दी ।
आयोजन आइसना के जिला अध्यक्ष हरीश अहीर के नेतृत्व में कार्यक्रम का संचालन अविनाश जाजपुरा द्वारा किया गया, अतिथि पदाधिकारी प्रशासनिक अधिकारी और पत्रकार गणों का अभिनंदन संजय यादव, लोकेंद्र फतनानी, नरेंद्र गहलोत, राकेश गुर्जर, राहुल पाल, गोपाल मेहरा, अमित शर्मा, महेश जैन, अफजल कुरेशी, मनोज मीणा, विनोद गोठवाल, मनीष सोनी, महेश बेरागी, मिश्री लाल पाटीदार, धर्मेंद्र पाटीदार, अशोक शर्मा द्वारा किया गया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here