राफेल को लेकर भाजपा का धरना मात्र एक दिखावा मोदी सरकार ने किया सुप्रीम कोर्ट को गुमराह —भगत वर्मा

0
216

नीमच, राफेल डील की याचिका को लेकर 14 दिसम्बर को सुप्रीम कोर्ट ने राफेल डील की याचिका को खारिज कर दिया था। भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट के अधूरे फैसले को लेकर कांग्रेस की जमकर आलोचना की, लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपने बयान पर डटे रहे उनका कहना था कि केन्द्र सरकार ने राफेल डील को लेकर सुप्रीम कोर्ट को गुमराह किया था। नीमच जिला कांग्रेस के प्रवक्ता भगत वर्मा ने अपना बयान जारी करते हुए कहा कि अब तीनों राज्यों मंे भाजपा का काम केवल धरना देने का है। 19 दिसम्बर को आयोजित धरने को मात्र एक नोटंकी बताया है। भाजपा के विधायक एवं कार्यकर्ता विधानसभा चुनाव में अपनी पराजय को देखकर अब जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कह चुके हैं, कि इसके लिये मोदी सरकार जिम्मेदार है। दूसरी ओर लेखा समिति के अध्यक्ष कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन ने स्पष्ट रूप से कहा है कि मोदी सरकार ने कोर्ट के सामने सही तथ्य प्रस्तुत नहीं किए हैं। प्रवक्ता श्री वर्मा ने कहा कि अपनी गलती सुधारने के लिये केन्द्र सरकार वापस सुप्रीम कोर्ट क्यो पहुंची? इससे स्पष्ट है कि राफेल डील मे अवश्य गडबडी हुई है। अब मध्यप्रदेश मे भाजपा के नेता लोकसभा चुनाव को लेकर जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। केन्द्र सरकार ने अपनी गलती को छिपाते हुए कहा है कि जवाब मे एक बिन्दू को समझने मंे गलती हुई है तथा यह भी स्वीकार किया है कि हमने केवल प्रक्रिया की जानकारी दी थी। कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा है कि इस मामले में केन्द्र सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने स्पष्ट किया कि अटारनी जनरल को पीएसी मे तलब करना चाहिये। कांग्रेस के साथ-साथ विपक्षी दलों ने भी कहा है कि मोदी सरकार ने कोर्ट के सामने गलत तथ्य प्रस्तुत किये हैं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से केन्द्र सरकार को क्लीनचिट मिलने से सरकार के दावे को कांग्रेस ने गलत ठहराया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता खडगे का कहना है कि संयुक्त संसदीय समिति ही राफेल सौदे मे कथित भ्रष्टाचार की जांच कर सकती है। 19 दिसम्बर को कांग्रेस के विरूद्ध धरना आंदोलन बेबुनियाद व आधारहीन हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here