लाखों की विदेशी बियर की तस्करी करने के आरोपी की जमानत खारिज कर जेल भेजा साथ ही बियर सुपुर्दगी पर देने का आवेदन भी किया खारीज।

0
1508

नीमच। श्री वंदन मेहता, मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी, नीमच द्वारा एक आरोपी जिस पर लाखों की विदेशी बियर की तस्करी करने का आरोप था, उसका जमानत आवेदन तथा बियर सुपुर्दगी पर प्राप्त करने का आवेदन अभियोजन द्वारा विरोध करने पर खारिज कर आरोपी को जेल भेज दिया गया तथा विदेशी बियर भी सुपुर्दगी पर नहीं दि गई।
अभियोजन मिडीया सेल प्रभारी एडीपीओ रितेश कुमार सोमपुरा द्वारा घटना की जानकारी देते हुए बताया कि दिनांक 30.09.2018 को वाहन चैकिग के दौरान जीरन पुलिस को राजस्थान की तरफ से आने वाले कंटेनर क्रमांक एच.आर. 67 बी 3377 की चैंकग में विदेशी कोरोना कंपनी की बियर की कुल 24000 बोतले (8520 बल्क लिटर) जिसका बाजार मुल्य लगभग 23,25,787 रू. था, को जप्त किया गया तथा आरोपी के पास बियर परीवहन का वैध लाईसेंस व परमीट नहीं होने से उसे गिरफ्तार कर उसके विरूद्व थाना जीरन में धारा 34(2) म.प्र. आबकारी अधिनियम के अंतर्गत अपराध क्रमांक 249/18 पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। आरोपी द्वारा न्यायालय में जमानत आवेदन एवं विदेशी बियर को सुपुर्दगी पर प्राप्त करने हेतु आवेदन प्रस्तुत किया गया।
जिला अभियोजन अधिकारी श्री आर. आर. चौधरी द्वारा न्यायालय के समक्ष आरोपी द्वारा प्रस्तुत जमानत आवेदन का मौखिक विरोध करते हुए तर्क रखे गये कि आरोपी से अवैध बियर जप्त की गयी है तथा दस्तावेजों की छायाप्रतिया प्रस्तुत की गई है जो कि संदिग्ध है तथा आरोपी हरियाणा राज्य का रहने वाला है जिसको जमानत दी गई तो उसके फरार होने की प्रबल संभावना है। सुपुर्दगी आवेदन का विरोध करते हुए श्री चौधरी द्वारा तर्क रखा गया कि जप्तशुदा बियर को राजसात किये जाने की कार्यवाही प्रचलन में है इसलिए आरोपी को बियर सुपुर्दगी में नही दिया जाना चाहिए। अभियोजन के तर्को से सहमत होते हुए श्री वंदन मेहता, मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी, नीमच द्वारा आरोपी हरकिरत सिंह पिता प्रितमसिंह, वर्ष, निवासी-पानीपत (हरियाणा) का जमानत आवेदन निरस्त कर उसको जेल भेजने का आदेश दिया गया तथा साथ ही आरोपी का सुपुर्दगी आवेदन भी निरस्त कर दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here