स्मेक से युवाओं की जिंदगियां हो रही बर्बाद,जिले में स्मैक ड्रग्स रैकेट पुलिस के लिए बना चुनौती ।

0
647

नीमच/(अमित शर्मा)- नीमच जिला वैसे तो अफीम और डोडा चूरा का गढ़ माना जाता है परंतु नीमच शहर और आसपास के इलाकों में समेकचियों की भी कमी नहीं है । आमतौर पर देखा जाता है कि पुलिस द्वारा अफीम और डोडा चूरा के मामलों में कई गिरफ्तारियां की जाती एवं बड़े खुलासे की जाती है परंतु स्मेक पकड़ने के मामले बहुत ही कम सामने आते हैं । यदि वास्तविकता में नीमच शहर पर नजर डाली जाए तो हर गली मोहल्ले मैं कोई ना कोई समेकची चलता फिरता नजर आता है । इन स्मेकेचियों की हालत जानवरों से भी बदतर है । परंतु इन्हें स्मेक की लत से छुटकारा दिलाने की कोई योजना शासन प्रशासन के पास नहीं दिखती । सैकड़ों युवा स्मैक की लत का शिकार हो अपना जीवन खो चुके हैं । नीमच शहर में दिनों दिन समेकचियों की संख्या बढ़ती जा रही है । खास करके युवा वर्ग स्मैक की लत का आदी बन चुका है । कई ऐसे युवा है जिनका जीवन में स्मेक की लत के चलते बर्बाद हो चुका है । यह स्मेक कहां से आती है कौन लाता है और इसकी सप्लाई कौन करता है क्या इसकी जानकारी वाकई में पुलिस विभाग के पास नहीं है या फिर नीमच जिले में स्मैक का इतना बड़ा रैकेट है कि पुलिस में भी इस रैकेट पर हाथ डालने की हिम्मत नहीं करती है ।
वास्तविकता में जब किसी युवा को स्मेक की लत का शिकार देखता हूं तो बहुत दुख होता है दिल बहुत दुखता है और सोच कर ही परेशान हो जाता हूं इनके परिवार उनके मां बाप पर क्या बीतती होगी ऐसे में क्या जिला प्रशासन एवं पुलिस का दायित्व नहीं बनता की स्मेक की इस लत से जिले के युवाओं को बचाया जाए ।

कई परिवार कर दिए स्मेक ने बर्बाद – नीमच जिले में कई परिवार ऐसे है जो स्मेक के कारण बर्बाद हो चुके है । कई युवा इस नशे के चक्कर मे अपना जीवन बर्बाद कर चुके है और कइयों की तो इस लत के चलते असमय मौत भी हो चुकी है । जिले में कई ऐसे परिवार है जिनके घर के युवा सदस्य इस लत के शिकार है ।
मौत से बदत्तर जिंदगी जी रहे है समेकची- स्मेक की लत के शिकार समेकची मौत से भी बदतर जिंदगी जी रहे है । अपनी लत को पूरा करने के लिए यह समेकची अपने घर आसपड़ोस एवं शहर में छोटी मोटी चोरिया भी करते है परंतु पुलिस भी इनको पकड़ इनके विरुद्ध कार्यवाही करने से इसलिए कतराती है कि यदि किसी समेकची को गिरफ्तार कर थाने में रख भी लिया जाए तो उसको पुलिस सम्भाल नहीं सकती है और स्मेक का नशा नहीं मिलने पर उसकी हालत खराब हो जाती है ।

जड़ से खत्म करना पड़ेगा इस रैकेट को – नीमच जिले में चल रहै इस ड्रग्स के रैकेट को पुलिस प्रशासन को जड़ से खत्म करना पड़ेगा तभी इस समस्या से समाज को मुक्ति मिल सकती है। यह समस्या नीमच शहर में एक नासूर के रूप में पनप रही है और यदि इसे जल्द समाप्त नहीं किया गया तो यह आगे बढ़कर और बड़ी परेशानी उत्पन्न कर सकती है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here