63 वर्षीय बुजुर्ग आरोपी की भी पीडीएस चावल घोटाले में जमानत खारिज कर जेल भेजा।

0
24

नीमच। श्रीमान विवेकानंद त्रिवेदी, मुख्य न्यायिक मजिस्टेªट, नीमच द्वारा सरकारी चावल की कालाबाजारी कर घोटाला करने वाले 63 वर्षीय बुजुर्ग आरोपी द्वारा प्रस्तुत जमानत आवेदन अभियोजन द्वारा आपत्ति करने पर निरस्त कर आरोपी को जेल भेजा गया।

अभियोजन मीडिया सेल को एडीपीओ श्री रितेश कुमार सोमपुरा द्वारा घटना की जानकारी देते हुुए बताया की घटना दिनांक 24.06.2020 को मेसर्स सुरेशचंद्र मांदलिया, बरूखेड़ा रोड़, ग्वालटोली स्थित गोदाम की हैं। कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी जितेन्द्र नागर द्वारा उक्त गोदाम में भण्डारित चावल की जांच की गई थी, पूछताछ करने पर उसने चावल के संग्रहण के संबंध में कोई दस्तावेज पेश नहीं किये गये, और न ही स्पष्ट कारण बताया गया। जाॅच करने पर भण्डारित चावल सार्वजनिक वितरण प्रणाली का होेना पाया गया, जो कि लगभग 374.69 क्वींटल था। जिस पर खाद्य विभाग द्वारा चावल के जांच नमूने लेकर कार्यवाही की गई। इसके साथ ही खाद्य विभाग द्वारा मेसर्स विजय कुमार जैन, मेसर्स महावीर जैन, मेसर्स पंकज टेªडिंग कम्पनी के विरूद्ध भी कार्यवाही की गई। आरोपी द्वारा शासकीय खाद्यान बेईमानीपूर्वक खरीदकर अनुचित लाभ अर्जित किया हैं तथा उक्त चावल की खरीदी में हेरा-फेरी कर तथ्यों को छुपाये जाने के कारण आरोपीगण के विरूद्ध रिपोर्ट थाना नीमच केंट पर अपराध क्रमांक 263/20 धारा 420 भादवि तथा धारा 3, 7 आवश्यक वस्तु अधिनियम के अंतर्गत पंजीबद्ध किया गया। पुलिस नीमच केंट ने विवेचना के दौरान आरोपी सुरेशचंद्र मांदलिया को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जहां पर आरोपी सुरेशचंद्र मांदलिया के द्वारा जमानत आवेदन प्रस्तुत किया गया। आरोपी महावीर जैन का पूर्व में जमानत आवेदन निरस्त किया जा चुका है।

श्री रितेश कुमार सोमपुरा, ए.डी.पी.ओ.द्वारा अभियोजन पक्ष की ओर से आरोपी द्वारा प्रस्तुत जमानत आवेदन का विरोध किया गया। जिस पर से श्रीमान विवेकानंद त्रिवेदी, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, नीमच द्वारा इस आधार पर की अभियुक्त द्वारा समाज के गरीब लोगो को दिये जाने वाले शासन की योजना के चावल की ब्लेकमेलिंग कर गंभीर सामाजिक व आर्थिक अपराध किया गया हैं। जिस कारण आरोपी सुरेशचंद्र पिता रामलाल मांदलिया, उम्र-63 वर्ष, निवासी-न्यू ईंद्रा नगर, जिला-नीमच की ओर से प्रस्तुत जमानत आवेदन खारिज कर जेल भेजने का आदेश दिया गया। ज्ञात हो की प्रकरण में वर्तमान में 4 आरोपीगण हैं, जिसमें से 2 फरार हैं, तथा 1 की पूर्व में जमानत आवेदन खारिज की गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here